Thursday, March 24, 2016

Poem On Hindu And Muslim

Hello Readers! Read A Beautiful Poem Written On Hindu And Muslim. By This Poem, Poet Want To Give A Beautiful Message To All That, Do Not Fight With Each Other, Before Hindu And Muslim's, We Are Human Being, We Have Same Colour Of Blood In Our Bodies.


Please Read How Poet Say His Feelings In The Form Of Poem. Read And Share.

Poem in Roman Hindi

 Naftao Ka Asar Dekho, Jaanvaro ka Bantwara Ho Gaya,
Naftao Ka Asar Dekho, Jaanvaro ka Bantwara Ho Gaya,
Gaay Hindu Ho Gai Aur Bakra Musalmaan Ho Gaya,
Ye Ped Ye Patte Ye Shakhen Bhi Pareshaan Ho Jayen,
Agar Parinde Bhi Hindu Aur Musalmaan Ho Jayen,
Sookhe Meve Bhi Yah Dekh Kar Hairaan Ho Gaye,
Naa Jaane Kab Nariyal Hindu Aur Khajoor Musalmaan Ho Gaye,
Jis Tarah Dharm Majhab Ke Naam Par Hum,
Rangon Ko Bhi Bant Te Ja Rahe Hain,
Ki Hara Musalmaan Aur Laal Hindu Ka Rang Hai,
To Vo Din Door Nahi Jab,
Saari Ki Saari Hari Sabziyaan Musalmaano Ki Ho Jayengi,
Aur Hinduon Ke Hisse Keval Tamatar Aur Gaajar Hi Aayenge,
Ab Ye Samajh Me Nahi Aa Raha Hai Ki Ye Tarbooz Kiske Hisse Me Aayega,
Ye Bechara To Upar Se Musalmaan Aur Andar Se Hindu Reh Jayega...

 Poem In Hindi

नफरतों का असर देखो, जानवरों का बंटवारा हो गया,
नफरतों का असर देखो, जानवरों का बंटवारा हो गया,
गाय हिन्दू हो गई और बकरा मुसलमान हो गया,
ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं,
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुसलमान हो जाएं,
सूखे मेवे भी यह देख कर हैरान हो गए,
ना जाने कब नारियल हिन्दू और खजूर मुसलमान हो गए,
जिस तरह से धर्म मज़हब के नाम पर हम,
रंगों को भी बाँटते जा रहे हैं,
की हरा मुसलमान का और लाल हिन्दू का रंग है,
तो वो दिन दूर नहीं जब,
सारी की सारी हरी सब्जियां मुसलामानों की हो जाएँगी,
और हिन्दुओं के हिस्से केवल टमाटर और गाजर ही आएँगे,
अब ये समझ में नहीं आ रहा है की ये तरबूज किसके हिस्से में आएगा,
ये तो बेचारा ऊपर से मुसलमान और अन्दर से हिन्दू रहा जाएगा..

No comments:

Post a Comment